हेल्दी रहने के लिए 10 तरीकों से आयुर्वेद को करें जीवन में शामिल|POPxo Hindi | POPxo
Home  >;  Lifestyle  >;  Health & Fitness  >;  Fitness
हेल्दी रहने के लिए इन 10 तरीकों से आयुर्वेद को करें अपने जीवन में शामिल

हेल्दी रहने के लिए इन 10 तरीकों से आयुर्वेद को करें अपने जीवन में शामिल

स्वस्थ और हेल्दी जीवन जीना हर किसी की चाहत होती है, लेकिन हर छोटी- छोटी प्रॉब्लम के लिए डॉक्टर के पास जाना किसी को पसंद नहीं होता। ऐसे में एलोपैथी की जगह आजकल दूसरी चिकित्सा पद्यतियां ज्यादा कारगर साबित हो रही हैं। जहां बिना डॉक्टर की सलाह के होम्योपैथी दवा लेना किसी को समझ नहीं आता, वहीं आयुर्वेद एक ऐसी चिकित्सा पद्यति है जिसे देश ही नहीं, विदेशों में भी काफी पसंद किया जा रहा है। यहां जीवा आयुर्वेदा के डायरेक्टर, डॉक्टर प्रताप चौहान हमें आयुर्वेद में बताए गए 10 ऐसे आसान  से तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिनको फॉलो करके हम न सिर्फ स्वस्थ रह सकते हैं, बल्कि खुशी के साथ जिंदगी को भरपूर एन्जॉय भी कर सकते हैं। .


1.जल्दी जगना और जल्दी सोना


आयुर्वेद के अनुसार सूर्य के साथ जगने और जल्दी सोने के लिए कहा गया है। सुबह - सुबह के समय प्रकृति में सात्विक तत्व ज्यादा होता है। जल्दी उठने से आपका मन शांत रहता है जो आपके शरीर के सभी दोषों को बैलेंस में रखने में मदद करता है। जो लोग जल्दी जागते और सोते हैं, उनका पाचन भी सही रहता है और वे देर से उठने और देर से जागने वाले लोगों से कहीं ज्यादा ऑर्गेनाइज्ड होते हैं।


fitness


2. क्लीन अप


सुबह उठते ही ब्रश करके अपने दांत साफ करें और अपनी जीभ भी साफ करें। इसके साथ ही थोड़े से तिल के बीज अपने मुंह में डालकर चबाएं, ताकि तिल का तेल आपके मुंह की ऑयलिंग कर सके। इससे आपके मुंह का स्वास्थ्य बेहतर होता है और मुंह में मौजूद बैक्टीरिया मर जाते हैं।


3. अपना पेट बिलकुल साफ रखें


सुबह- सुबह टॉयलेट जाकर अपना पेट साफ करने का रुटीन बहुत सी बीमारियों से बचाव करता है। अगर आपको सुबह पेट साफ करने में कोई समस्या आती है तो इसके लिए रात को सोने से पहले एक ग्लास गुनगुने पानी में एक चम्मच देसी घी या त्रिफला चूर्ण डालकर पियें।


4. मेडिटेशन


हर रोज करीब 15 से 20 मिनट के लिए मेडिटेशन करने की आदत बना लें। इससे आपको पूरे दिन के कामों के बारे में विचार एकत्रित करने में मदद मिलेगी और किसी भी चुनौती को शांति से निपटने की ताकत मिलेगी।


5. मील्स के बीच 4-5 घंटे का गैप


shutterstock 135242600


आयुर्वेद में कहा गया है कि नाश्ते, लंच और डिनर के बीच करीब 4-5 घंटे की दूरी रखनी चाहिए। इसका अर्थ यह है कि किसी भी  भोजन के पूरी तरह से पाचन होने से पहले अगला भोजन करने से आमा (टॉक्सिक सामग्री) का निर्माण होने लगता है। भोजन तभी करना चाहिए जब भूख लगी हो। अपनी भूख को बढ़ाने के लिए आप अदरक के एक टुकड़े को नमक और गुनगुने पानी के साथ खा सकते हैं।


6. अपनी मसाज खुद करें


आयुर्वेद में अभ्यंग का अर्थ होता है अपनी मालिश। इसके अनुसार सप्ताह में एक बार हर व्यक्ति को गर्म तेल से अपनी मालिश करनी चाहिए। छूने लायक गर्म तेल से आप हल्के हाथों से अपने सिर और शरीर की मसाज करें। अपने सिर की डेली मसाज से आप प्रसन्न और साथ ही सिरदर्द से दूर भी रहते हैं। इसका एक फायदा और भी है कि गंजापन, बाल सफेद होना और आगे से बाल हटना भी नहीं होता। रात को सोने से पहले शरीर की मालिश का फायदा यह है कि इससे गहरी और अच्छी नींद आती है और आपकी स्किन सॉफ्ट रहती है।


7. भोजन पूरे ध्यान से करें


बहुत से लोग आजकल भोजन करते वक्त हाथ में मोबाइल ले लेते हैं या फिर टीवी देखते रहते हैं। खाते वक्त दूसरी बातों में ध्यान होने से शरीर भोजन को अच्छी तरह से नहीं पचा पाता है। भोजन का पाचन मुंह से शुरू होता है, इसलिए भोजन को निगलने से पहले अच्छी तरह से चबाना चाहिए। अगर हो सके तो भोजन करते वक्त पालथी बनाकर सुखासन की मुद्रा में जमीन या फिर तख्त पर बैठना चाहिए और भोजन करने के बाद पांच मिनट के लिए वज्रासन की मुद्रा में बैठना चाहिए, ताकि पाचन में मदद हो सके।


8. अपनी संरचना को जानें


अपने शरीर की संरचना के बारे में जानने के लिए वात, पित्त और कफ टेस्ट करें। वे लोग ज्यादा बीमार पड़ते हैं जो अपनी संरचना के विरुद्ध लाइफस्टाइल फॉलो करते हैं। अपनी संरचना को जानें और इसी के अनुसार व्यवहार करेंगे तो हमेशा स्वस्थ यानि हेल्दी बने रहेंगे।


9. हल्का और ताजा खाएं


हमेशा ताजा पका हुआ ऐसा भोजन करें जो हल्का और आसानी से पचने वाला हो। बासी, फ्रोजन या रखा हुआ भोजन हेल्दी नहीं होता। अगर आप खाना खाते वक्त बीच में ठंडा पानी पीते हैं तो ऐसा करना बंद कर दें, क्योंकि यह आपके स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है। हां, अगर जरूरत हो तो धीरे- धीरे  छाछ के घूंट ले सकते हैं।


10. जो खा सकते हैं, लगा भी सकते हैं


remove-annoying-hair-5


अपनी स्किन और बालों पर केमिकल्स वाले उत्पाद लगाने के बजाय उन चीजों को लगाएं जिन्हें आप खाते हैं। जैसे आंवला, नीम, पपीता, केला, हल्दी, एलोवेरा इत्यादि। ये प्रोडक्ट्स स्किन के साथ- साथ बालों के लिए भी बेहतरीन होते हैं और इनकी अच्छी देखभाल भी करते हैं।


(डॉ. प्रताप चौहान एक लेखक, टीवी पर्सनैलिटी, आयुर्वेदिक डॉक्टर और पब्लिक स्पीकर हैं।)  


इन्हें भी देखें -


जानें, एलोवेरा जेल और एलोवेरा जूस के 17 हेल्थ और ब्यूटी बेनिफिट्स


आयुर्वेद के अनुसार जानिए क्या है पानी पीने का सही तरीका


हमें फिटनेस ही नहीं, जिंदगी के भी सबक देते हैं शिल्पा शेट्टी के ये 10 मंत्रा



 

Published on Apr 9, 2018
Like button
3 Likes
Save Button Save
Share Button
Share
Read More
Trending Products
Loading...

Your Feed