ट्विटर एक ऐसा प्लेटफॉर्म, जहां महिलाओं के खिलाफ पनपी हिंसा| POPxo Hindi | POPxo
Home  >;  Lifestyle  >;  Entertainment
'ट्विटर एक ऐसा प्लेटफॉर्म, जहां महिलाओं के खिलाफ पनपी हिंसा और अपमान'

'ट्विटर एक ऐसा प्लेटफॉर्म, जहां महिलाओं के खिलाफ पनपी हिंसा और अपमान'

जाने- माने संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने हाल ही में जारी एक रिपोर्ट में कहा है कि सोशल मीडिया का जानामाना हैंडल ट्विटर महिला अधिकारों का सम्मान नहीं कर पाया है। एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार ट्विटर महिलाओं के साथ हिंसा और अपमान की ऑनलाइन खबरों पर पारदर्शी जांच और प्रतिक्रिया में महिला अधिकारों का सम्मान करने में असफल रहा है।


हिंसा और अपमान का अनुभव


ऑनलाइन महिलाओं से हिंसा और अपमान के शीर्षक वाली रिपोर्ट में कहा गया है कि बहुत सी महिलाओं के लिए ट्विटर एक ऐसी जगह है जहां थोड़ी बहुत जवाबदेही के साथ उनके खिलाफ हिसा और अपमान पनपा है। महिलाओं की आवाज को सशक्त बनाने से कोसों दूर सोशल मीडिया मंच पर बहुत सी महिलाओं ने हिंसा और अपमान का अनुभव किया है और जो भी वह पोस्ट कर रही हैं उसके लिए उन्हें आत्म नियंत्रक बना दिया है। साथ ही महिलाओं को पूर्ण रूप से माइक्रोब्लॉगिंग साइट छोड़ने के लिए मजबूर किया गया है।


Twitter Logo


महिलाओं के साक्षात्कार पर आधारित रिपोर्ट


यह रिपोर्ट ब्रिटेन और अमेरिका में समूहों और निजी तौर पर 86 महिलाओं के साक्षात्कार पर आधारित है, जिसमें स्कॉटलैंड की पहली मंत्री निकोला स्टर्जन का जिक्र करने वाले अपमानजनक ट्वीट का हवाला दिया गया है। स्टर्जन के हवाले से कहा गया है, राजनीति में महिलाओं के लिए आनलाइन अपमान अस्वीकार्य है। एक महिला के लिए कहीं भी इस तरह के अपमान से जूझना अस्वीकार्य है।


शारीरिक और यौन हिंसा


एमनेस्टी इंटरनेशनल ने 16 महीनों के शोध के बाद पाया कि मंच पर महिलाओं द्वारा अनुभव किए गए अपमान में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से शारीरिक और यौन हिंसा की धमकियां, महिला की पहचान के एक या एक से अधिक पहलुओं पर लक्षित भेदभावपूर्ण अपमान, लक्षित उत्पीड़न, महिला की बिना मंजूरी के यौन या अंतरंग चित्रों को साझा करना शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया, ट्विटर अपने को एक ऐसी जगह बताता है जहां प्रत्येक आवाज के पास विश्व पर प्रभाव डालने की शक्ति है लेकिन वह महिलाओं के खिलाफ उनके मानवाधिकार की रक्षा करने में और प्रभावी रूप से हिंसा पर रोकथाम लगाने में विफल रहा है।


(सौजन्य - आईएएनएस)


इन्हें भी देखें -


अब महिला अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ेंगी तीन तलाक की पीड़िता इशरत जहां


सोशल मीडिया फ्रेंड से पहली बार मिलने पर इन 8 टिप्स का रखें ध्यान


वर्कप्लेस पर यौन उत्पीड़न : जानें महिला सुरक्षा से जुड़ी ये बातें


महिलाओं के बढ़ते कदम: रूढ़िवादिता के खिलाफ एक मिसाल बनी पहली महिला इमाम

Published on Mar 22, 2018
Like button
1 Like
Save Button Save
Share Button
Share
Read More
Trending Products

Your Feed