Search page
About
Open menu

#MyStory: और हम Lovers से फिर अजनबी बन गए...

वो सब कुछ मेरे कालेज के पहले दिन शुरू हुआ। मेरा कालेज मुंबई में सबसे पुराने कालेजों में से एक था और वहां का खूबसूरत architecture हर जगह मशहूर था। कालेज के क्लासरूम बहुत बड़े थे और कॉरीडोर बहुत लंबे और उलझा देने वाले। मुझे ऐसा लगता था जैसे मैं किसी पहेली में उलझ सी गई हूं। कालेज के पहले दिन मुझे अपनी क्लास ढूंढने में ही 45 मिनट लग गए। क्लास में सबसे देर से पहुंची...चारों ओर नए चेहरों के बीच मुझे बेहत अजीब लग रहा था।

क्लास के अंदर जाते ही मैंने जो पहली खाली सीट देखी उस पर बैठ गई! जैसे ही क्लास खत्म हुई सब स्टूडेंट्स उठकर एक दूसरे से बातें करने लगे। मेरे पास भी कुछ स्टूडेंट्स आए और बहुत जल्दी ही हमारे बीच अच्छी खासी गप्पें लगने लगई। मुझे मेरा ग्रुप मिल गया था!

हमारे ग्रुप की ही तरह क्लास में एक और ग्रुप था जिसे लोग ज्यादा पसंद नहीं करते थे क्योंकि वो दूसरे स्टूडेंट्स को bully करता था। दूसरे स्टूडेंट्स पर कमेंट पास करना, उन पर फालतू जोक्स मारना, उनके pranks और इन्हीं सब हरकतों की वजह से क्लास में सब उनके परेशान हो चुके थे। मेरे दोस्तों का ग्रुप भी उनसे नफरत करता था। लेकिन उस ग्रुप में एक लड़का था जो हमेशा मुझे देखता रहता था और क्लास में उसकी नजर लगभग हमेशा ही मुझ पर रहती थी...पहले लेक्चर से ही मैं उसे ये सब करते हुए नोटिस कर रही थी। उसने मुझसे कभी बात करने की कोशिश नहीं की। वो सिर्फ मुझे देखता रहता था...और मैं इससे परेशान हो चुकी थी।

मैं उससे जाकर कुछ नहीं पूछना चाहती थी क्योंकि मैं किसी लड़ाई में नहीं पड़ना चाहती थी। जैसे जैसे दिन बीतने लगे उसने मुझसे कुछ कुछ बात करने की कोशिश की...लेकिन मैंने हर बार उसकी इस कोशिश को नाकामयाब कर दिया। मैं उसे लगातार ignore कर रही थी। इस बात से वो इतना नाराज हो गया कि एक दिन उसने बिना बात मेरे ग्रुप के एक लड़के से लड़ाई कर ली।

आखिरकार मेरे सब्र का बांध टूट गया!! मैं सीधा उसके पास गई और पूछा कि आखिर उसकी problem क्या है। उसने थोड़ी बहस की लेकिन जल्दी ही उसने माफी मांग ली। उसने कहा कि वो सिर्फ मुझसे दोस्ती करना चाहता था हालांकि उसका तरीका गलत था। मैंने कहा कि मैं उससे दोस्ती नहीं करना चाहती और अगर वो सच में मेरा दोस्त बनना चाहता है तो अपनी behaviour ठीक करना पड़ेगा।
उसने मेरी ये शर्त ज्यादा ही seriously ले ली। उसके बाद उसने एकदम से बहुत बदलाव आ गया। उसने क्लास के दूसरे स्टूडेंट्स के साथ उठना बैठना शुरू कर दिया, कालेज एक्टिविटि में पार्ट लेना शुरू कर दिया, पढ़ाई पर ध्यान देने लगा और सबसे जरूरी बात..सबके साथ अच्छे से पेश आने लगा। मुझे ऐसा लगने लगा था कि वो पूरी तरह बदल गया है! इसलिए मैंने सोचा कि उसे एक चांस तो देना ही चाहिए। शायद वो उतना बुरा नहीं था जितना मैंने उसे सोच लिया था। हम जब भी कालेज में मिलते, घंटों बात करते, फिर कैंटीन में जाकर बैठते और वहां भी फिर घंटों बात करते। मैं धीरे धीरे उसकी तरफ खींचने लगी और मुझे पता था कि वो भी मेरे लिए कुछ ऐसा ही महसूस कर रहा है।

मेरे और उसके ग्रुप को बारी दोस्त समझ ही नहीं पा रहे थे कि इतने छोटे से टाइम में हमारे बीच ऐसा क्या हो गया...लेकिन हम दोनों समझ रहे थे।

lovers-to-strangers

आखिरकार हमने अपने इस रिश्ते को एक नाम दे दिया!! और अब पूरे कालेज को पता था कि हम रिलेशनशिप में हैं...यहां तक की कालेज के सभी प्रोफेसर को भी! शुरू शुरू में ये अजीब लगा लेकिन फिर हम दोनों को ही इसकी आदत हो गई। सब कुछ सही चल रहा था लेकिन कालेज के फाइनल ईयर में आते आते ही हमारे बीच लड़ाइयां होने लगी। इसकी वजह हमारी पढ़ाई नहीं थी बल्कि क्लास में एक नई लड़की आई थी जो हमारी लड़ाइयों की वजह बनी। वो खूबसूरत थी लेकिन मुझे उसकी intentions ठीक नहीं लगी। मैं कभी भी possessive नहीं थी लेकिन मैंने खुद नोटिस किया कि मेरा ब्वॉयफ्रेंड और वो लड़की क्लास में एक दूसरे पर कुछ ज्यादा ही ध्यान देने लगे थे।

एक दिन हम दोनों के बीच बहुत जबरदस्त लड़ाई हुई। ऐसा लगा कि हमारी रिलेशनशिप खत्म होने वाली है। हमारे दोस्त और प्रोफेसर भी ये बात जान चुके थे कि कुछ गड़बड़ चल रही है। अगले कुछ दिनों तक मेरे boyfriend ने कोई क्लास अटैंड नहीं की। मैं इससे परेशान हो गई। मुझे बिल्कुल नहीं पता था कि वो कहां है और क्या कर रहा है। वो नई लड़की भी क्लास में नहीं आ रही थी और इससे मेरी बैचेनी और बढ़ गई थी। तभी एक दिन मेरे ही एक क्लासमेट ने बताया कि मेरा ब्वॉयफ्रेंड और वो नई लड़की पास के ही एक हिल स्टेशन पर घूमने गए हुए हैं। मैं पूरी तरह shocked रह गई। मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या हो रहा है। इन दोनों ने बात करनी कब शुरू की?? ये सब हो क्या रहा है?? मेरे दिमाग में ऐसे न जाने कितने सवाल घूमने लगे।

दो दिन बाद मैं क्लास में लेट पहुंची। मैंने नोटिस किया कि सब लोग मुझे ही देख रहे थे। मुझे अजीब लगा। लेकिन तभी मेरी नजर मेरे boyfriend और उस नई लड़की पर पड़ी जो क्लास में एक साथ बैठे थे और ये show off कर रहे थे कि वो नए ‘couple’ हैं!! अब मुझे समझ आ गया था कि वो आगे बढ़ चुका है और नई गर्लफ्रेंड भी उसे मिल गई है। मुझे इतना गुस्सा आया...मैं सीधा उसके पास गई और उससे पूछा कि वो मेरे साथ ऐसा कैसे कर सकता है..हम इतने साल साथ थे!!?? उसने कोई जवाब नहीं दिया..बल्कि वो फौरन से क्लास से उठकर बाहर चला गया।

सब कुछ खत्म हो चुका था...मैंने उम्मीद भी छोड़ दी कि वो मुझे इसकी वजह बताएगा। मैंने फैसला किया कि मैं अपनी जिंदगी ट्रैक पर लाने की कोशिश करुंगी। मुझे कुछ महसूस नहीं हो रहा था। मैं कालेज जाती, क्लास अटैंड करती और घर वापस आ जाती। मैंने दोस्तों के साथ बाहर जाना छोड़ दिया...मुझे लगा कि हर कोई यही सवाल पूछना चाहता है कि आखिर क्या हुआ था। जिस लड़के से मैं इतना प्यार करती थी, उसे हर दिन किसी दूसरी लड़की के साथ देखकर मेरा दिल टूट रहा था...हां, हर दिन!! लेकिन मैं पूरी कोशिश करती थी कि मेरे चेहरे से इस बात का पता न चले।

मुझे लगा कि मैंने इस रिश्ते को जितना टाइम, जितना प्यार दिया था उसका कोई मतलब नहीं था। हम दोनों कपल से एक बार फिर अजनबी बन गए थे...जैसे कालेज के पहले दिन थे। अगर मुझे पता होता कि यह रिश्ता इस तरह खत्म होगा तो मैं कभी इस रिश्ते की शुरूआत ही न होने देती।
लेकिन इस पूरे वाकये से जिंदगी ने मुझे सिखाया कि उन लोगों को कभी न भूलो जिन्होंने मुश्किल समय में आपका साथ दिया। मेरे दोस्त और मेरे प्रोफेसर इस दौरान मेरे साथ थे, और उन्होंने मुझे उस बुरे दौर को भुलाने और आगे बढ़ने में मदद की। वो लोग आज भी मेरे दिल के बहुत करीब हैं।
Published on Feb 08, 2016
POPxo uses cookies to ensure you get the best experience on our website More info
Never miss a heart!

Set up push notifications so you know when you have new likes, answers, comments ... and much more!

We'll also send you the funniest, cutest things on POPxo each day!