ज़रूर जानें ये 6 Hygiene Tips अपने Next Periods से पहले! | POPxo

ज़रूर जानें ये 6 Hygiene Tips अपने Next Periods से पहले!

POPxo Team

POPxo Team

Puberty की शुरुआत शारीरिक विकास का संकेत होती है। लेकिन इस बदलाव के साथ ढलने में थोड़ा समय लगता है! ये सिर्फ हमारे शरीर और दिमाग में ही बदलाव नहीं लाती है बल्कि हमें अपने रोज़ के रूटीन में भी बदलाव करना पड़ता है। Periods के दिनों में तनाव और दर्द से बचने का सबसे बेहतर तरीका है कि उन दिनों में सफाई और hygiene का खास ख्याल रखा जाए। Sanitary napkins के इस्तेमाल से लेकर उन्हें सही तरीके से dispose करना वगैरह ऐसी कई चीज़ें हैं जो हमें याद रखनी चाहिए। तो आपके “महीने के उन दिनों” को थोड़ा आसान बनाने के लिए, हम आपको आज कुछ ऐसी hygiene टिप्स देंगे जिन्हें आप नज़रअंदाज़ कर जाती हैं।

(P.S.: याद रखें, पीरियड्स से जुड़े myths पर ध्यान न दें! यहाँ हम आपकी अच्छी सेहत की बात कर रहे हैं – और साफ व स्वस्थ पीरियड कैसे हो, इसे डिस्कस करने में कोई बुराई नहीं है!)

1. पीरियड्स के लिए अलग अंडरवियर रखें “हमेशा”


1

Panties से पीरियड के दागों को एकदम से साफ करना मुश्किल है, खासकर अगर आप ऑफिस में हैं या कहीं बाहर। इसलिए, हमारी सलाह है कि आप पीरियड के दिनों के लिए अलग panties रखें। इस बात का ख्याल रखें कि उन्हें आप सिर्फ़ अपने पीरियड के दिनों में ही पहनें और दुबारा इस्तेमाल करने से पहले उन्हें गर्म पानी और किसी disinfectant से धोएं। और हां, अपने बैग में हमेशा एक्सट्रा panties carry करें! पूरे दिन दाग लगी panties पहनना बद्दतर है।

2. पीरियड के दिनों में अपनी चादर को बदलते रहें


2

रात में कभी leakage होना सामान्य बात है। गंदगी और infection से बचने के लिए अपनी चादर बदलती रहें। चादर को धोने के लिए डेटॉल या किसी भी दूसरे sanitizer का इस्तेमाल करें। इसके अलावा अपने इनरवियर को भी बदलती रहें। जिन लड़कियों को ज़्यादा पसीना आता है, वो जितना ज़्यादा अपना इनर वियर बदलेगी (बजाए उन्हें पूरे दिन पहनने के), उतना ही उन्हें relaxed महसूस होगा।


3. Tampons की जगह menstrual कप चुनें


3

कई महिलाओं को tampons के मुक़ाबले menstrual कप ज़्यादा आरामदायक लगते हैं। कप्स ब्लड फ्लो को सोखने की बजाए उसे इकट्ठा करने का काम करते हैं – इसका मतलब है की ये लीक कम होते हैं और आपको हर आधे घंटे में change करने के लिए बाथरूम नहीं जाना पड़ता है। इसके अलावा tampons आपको sore और ड्राय महसूस करा सकते हैं, तो जिन्हें हैवी फ्लो होता है उनके लिए कप्स बेहतर विकल्प हैं।


4. Rashes से बचने के लिए sanitary पैड्स को सही तरीके से लगाएं


4

अगर आप पैड्स इस्तेमाल कर रही हैं, तो हमारी सलाह है कि आप इस precaution को बेहद सावधानी से follow करें! पैड्स को सही से प्लेस करने के लिए अपना समय लें, क्योंकि अगर वो सही तरीके से नहीं लगेगा तो rashes होने की संभावना बढ़ जाती है। और हां, इससे खुजली भी बहुत होती है (क्योंकि फ़ीमेल genitalia बहुत सेन्सिटिव होता है)। अगर आप इसे सीरियसली नहीं लेती हैं तो हो सकता है आपको मेडिकल हेल्प की ज़रूरत पड़े।

5. कसरत के बाद लेडी पार्ट्स को साफ करना न भूलें


Yoga woman meditating and making a zen symbol with her hand

अगर आप पीरियड के दिनों में योगा या किसी भी प्रकार की माइल्ड कसरत करती हैं, तो कपड़े बदलना और नहाना न भूलें क्योंकि कसरत के कारण पसीना इकट्ठा हुआ होगा, जिससे bacterial infection हो सकता है।


6. सुरक्षा के लिए External genitalia को भी साफ रखें


अपने vulva को हल्के गर्म पानी से साफ करें। साइंस कहता है कि vagina खुद-ब-खुद साफ हो जाता है, इसलिए वहां साबुन नहीं लगाएं। इसकी जगह आप फेमिनीन hygiene प्रोडक्टस की मदद ले सकती हैं। यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फ़ेक्शन से बचने के लिए इस बात का ख्याल रखें की पानी vagina से anal एरिया की तरफ जाता है न कि इसका उल्टा।

P.S.  पीरियड के दिनों में कुछ भी खाने या पीने से पहले अपने हाथों को साबुन या हैंड sanitizer से धोना न भूलें!

P.S.  Sanitary पैड या tampons को डस्टबिन में डालने से पहले उन्हें अच्छे से wrap करना न भूलें। उन्हें कभी भी फ्लश न करें, चाहें आप कितनी भी जल्दी में हो।

तो लेडिज, हम आशा करते हैं की आपका पीरियड हमेशा साफ और स्वस्थ हो!     

Images: shutterstock.com

यह स्टोरी POPxo हिंदी के लिए Manali Bhatnagar ने लिखी है।

यह भी पढें: 10 Situations जब आप ज़रूर जायें gynaecologist के पास

यह भी पढें: किसी लड़की को पसंद नहीं Periods में ये 12 बातें सुनना!!

 
Published on Jan 20, 2016
home messages notifications search hamburger menu
POPxo uses cookies to ensure you get the best experience on our website More info

Just Another Step!

SIGN IN TO POPxo WORLD

to see what other girls are talking about