दीदी

दीदी, Pleeeease!!! ये 14 बातें समझती है हर ‘दीदी’...

Riwa Singh

Writer, Hindi, POPxo

अगर आप अपने घर के बच्चों में सबसे बड़ी हैं तो आपको पता होगा कि बड़ा होना बच्चों का खेल बिल्कुल नहीं है। आपको हर चीज़ का overdose मिलता है फिर चाहें वह प्यार हो, दुलार हो, आपकी मनमर्ज़ियां हों या फिर ज़िम्मेदारी। आप से उम्मीद की जाती है कि आप एक्स्ट्रा समझदार हों, सभी की counselling करने के लिए आप inspiration बनें ताकि आपके छोटे भाई-बहन आप से सीख सकें। आपकी पसंद-नापसंद कई बार छोटों को भी झेलनी पड़ती है, पर उनकी गलतियों पर मम्मी की डांट में आपकी भी हिस्सेदारी होती है। आप क्लास 1st में ही ‘बड़ी‘ बन जाती हैं और आपके भाई-बहन! क्लास 11th में भी “अभी तो बच्चा है, धीरे-धीरे सीख जाएगा।” हम आपको बता रहे हैं कैसे आप अपने छोटे भाई-बहनों के साथ एक अनोखे प्यार-तकरार वाले रिश्ते में बंधी हैं।



1. मम्मी का काम, डैडी का काम, बाकी सारा आपका काम


घर में कुछ काम बंटे होते हैं, मम्मी-डैडी अपना काम करते हैं, उसके बाद जो भी काम बचता है, जैसे - दूध लाना, घर का सामान खरीदना (कभी-कभी), बगल वाली आंटी को कुछ देने के लिए जाना, मेहमानों को पैरेंट्स की गैरमौजूदगी में बिठाना, चाय-नाश्ता देना वगैरह-वगैरह..ये सारे काम तब तक आपके हिस्से ही रहते हैं जब तक आप के भाई-बहन बड़े नहीं हो जाते। :(

Point no. 1


2. पैरेंट्स घर पर नहीं हैं, तुम रखोगी सबका ख्याल


आपको याद होगा, जब आप क्लास 8th में थीं और पैरेंट्स घर से बाहर जाते थे तो आप से कहा जाता था - इन दोनों को देखती रहना, कोई शरारत न करें। जब वो क्लास 9th में आ गए तो भी आपको एक बार ये नसीहत ज़रूर दी गई होगी। मतलब आप हमेशा बड़ी हैं और वो हमेशा छोटे।

point no. 2




3. मम्मी-डैडी नहीं, आप हैं Big Boss!


भाई-बहन पर रौब जमाना तो कोई आप से सीखे। मम्मी भी कई बार उन्हें यही धमकी देती हैं - दीदी को आने दो, तब पता चलेगा। आपकी बात टालना मतलब…...बस पूछिए मत। आज कहां घूमने जाना है और खाने में क्या बनना चाहिए, ये भी आप से ही पूछा जाता है। आप ने जो कह दिया, वो सबकी सर-आंखों पर। B|

Ur rules, they follow


4. सब कुछ पहले - आपके लिए, पर शेयर तो करना ही पड़ेगा


आपको सबकुछ अपने भाई-बहनों से पहले मिलता होगा - साइकिल, घड़ी, मोबाइल, लैपटॉप, स्कूटी। पर जो चीज़ एक बार घर में आ गई, उसकी तरफ़ सबकी ललचायी नज़रें हैं। ऐसे में पैरेंट्स को उन पर दया आ जाती है और वो चीज़ personal-cum-sharing हो जाती है। :-/

5. आपका सामान, आपके rules..


उन्हें आपकी स्कूटी या आपका लैपटॉप चलाने की permission तो मिल गई (घरवालों की कृपा से!) पर आपका हुकूमती अंदाज़ ऐसे थोड़ी जाएगा। आप उन्हें एहसास दिलाती रहती हैं कि वो लैपटॉप आपका है - बस आधे घंटे के लिए दे रही हूं….जल्दी शट-डाउन करो, net-pack खत्म हो जाएगा।

personal-cum-sharing




6. आपको हर बार permission के लिए रोना-गिड़गिड़ाना पड़ा, पर उनको? कभी नहीं!


आपको अपने फ्रेंड्स के साथ घूमने जाना हो या new year celebrate करना हो, सबसे बड़ी प्रॉब्लम थी मम्मी-डैडी को मनाना। रोना-धोना और दो दिन तक पूरा ड्रामा, तब जाकर आप को permission मिलती थी, पर बहन को तो चुटकी में मिल गई..क्योंकि आप गई थीं तो उसको सिर्फ इतना कहना पड़ा “दीदी भी तो गई थी” ...वैसे भी अब आप के जाने के बाद पैरेंट्स का mindset भी बदल गया। अपने भाई-बहनों को एहसास दिलाइए कैसे आप ने अकेले सब के हक की लड़ाई लड़ी है।

pleading


7. आपको ideal बनना है, ताकि वो आप से सीख सकें


और वो आज़ाद हैं कुछ भी बनने के लिए, क्योंकि उनसे कोई कुछ भी नहीं सीखेगा। आधी ज़िंदगी तो सीखने-सीखाने में बीत गई। Huh! :-/

Siblings may become lazy


8. पर हां, आप rules बनाती हैं और वो follow करते हैं


इसे कहते हैं balance of power!



9. आप उन्हें अपने कपड़े दे दें, फिर भी वो आपके कलेक्शन में ताक-झांक नहीं छोड़ती।


निगाहें ऐसे दौड़ाई जाती हैं जैसे कोई ख़जाना छिपा रखा हो आप ने।

10. आपके छोटे-मोटे काम? भाई-बहन ज़िंदाबाद!


मीनू! वो book इधर देना..मैं लेट हो रही हूं, ये जींस प्रेस कर दो, किचन से मेरा टिफिन ला दो न। बगल वाली शॉप पर जाओ और मेरा मोबाइल रिचार्ज करवा दो..और पता नहीं कितने काम आप उनसे यूं ही करवा लेती हैं। :-)

U have to be ideal


11. काम की कीमत भी


कभी-कभी आप उनके काम से इतनी खुश होती हैं कि अपनी पॉकेट से कुछ पैसे उन्हें देकर कुछ खरीद लेने की छूट भी देती हैं। अगर ज्यादा प्यार आ जाए, तो बाहर से आते वक्त उनके लिए कोई सरप्राइज़, है न!

12. वो थोड़ा-बहुत जलते भी हैं आप से


ये बात आप खूब समझती हैं, इस जलन में भी प्यार है। उनकी परेशानी यह है कि सब लोग दीदी की बात ही क्यों मानते हैं? कोई हमारी क्यों नहीं सुनता? अब आप की हुकूमत होगी, तो उन्हें थोड़ी जलन तो होगी न।

Jealous




13. उनका कोई काम फंसा, तो सबसे पहले - दीदी


उन्हें किसी के birthday party में जाना है, मम्मी ने साफ मना कर दिया, तो अब केस सीधा आपके पास पहुंचा, आप ही उनका भला कर सकती हैं क्योंकि आप उन्हें समझती हैं और आपको मम्मी-डैडी मना नहीं करते। :D

14. जैसे-जैसे आप बड़े होते हैं, आप team बन जाते हैं


आप में 5 साल का फर्क हो तो भी चलेगा, पर आप एक-दूसरे को बेहतर समझते हैं, सपोर्ट करते हैं..एक अच्छे दोस्त की तरह। आपको पता ही नहीं चलता कब आप एक टीम बन गए।

last point

GIFs: giphy.com, tumblr.com
Published on Jul 23, 2015
Save
Read Full Story
POPxo uses cookies to ensure you get the best experience on our website More info

Discuss things safely!

Sign in to POPxo World

India’s largest platform for women

Start a poll Ask a question